There are no breaking news at the moment

Shankar-Guha-Niyogi

Shankar Guha Niyogi was a leader with immense integrity and political purpose-fulness in life. And I am aware that I am not the right person to write about him. But since certain memories haunt me, I feel it may be good to relieve myself by writing about him.

The time was 1979-80. My mind was filled with Marxian politics and I was drawing cartoons for mainstream news papers and magazines while I was still a hang-around as a student at the school of German Studies in JNU. While my mind was struggling to deal with the expectations on me from all three areas and conflicts within myself, I must say the preoccupation was more on political thinking. Occasional activism was a source of energy and relief. That was the time when Jogin, a friend with whom I used to discuss with on common political dreams, took me to Shankar Guha Nyogi, for which I am grateful to Jogin throughout my life. For he exposed me to a great personality which made me reflect on my own strengths and weaknesses. Most of us rarely get an occasion to have a clear understanding of our own strengths and weaknesses, especially at a young age.

Nyogi was not a well known figure in Delhi at that time. But I had known about him as a great political leader who organized the mine workers of Dalli Rajhara in Chattisgarh. For those youngster who were searching for revolution and kept feeling that traditional left would not be a source for such a hope, there was always a need to look for outside symbols. The image of Nyogi shared this hope for us for a working class revolution. Before me, my very good close friend Paul Kurien was already in touch with him and did some sharing with me about Nyogi’s work in Chattisgarh. Paul was also planning to do some research on some of the issues related to the issues of miners in Chattisgarh, connecting with Neogi. I am forced to pause for a minute here, because both Paul Kurien, who had an extra ordinary mind and Shankar Guha Nyogi, an extra ordinary activist leader are not with us any more. But I am sure, those who knew these people will know exactly the meaning of my words, because certain realities and memories are beyond the language of words.

I walked into a small room in Green Park Extension with Jogin, where Nyogi and his friend Amit Sen Gupta, a trade unionist from HMS were seated. Nyogi surprised me by his simplicity and we sat down to talk. During those days, like most of the JNUites, discussions meant sharing of our differences of ideas. And I was stupid enough to do exactly that with Nyogi, since I noticed his leanings on Stalin. In no time, the debate on Stalin became very heated. Unfortunately, because of the time and energy we spent in our group in JNU, I had a superior edge. I was horrified to note how a person like Shankar Guha Niyogi could defend a person like Joseph Stalin, who was responsible for many murders including the leaders who built the Russian revolution as well as their families and comrades. The other difference of mine with Niyogi was on the characterization of Indian State as semi feudal and semi colonial, similar to the analysis of CPI(ML). Though Niyogi had spent his time with underground politics before I met him, he was already out of all such politics and he had no faith on the concept of `annihilation of class enemy’ which advocated violence. If he believed in such strategies, he could have easily killed his own murderers much before they shot him. But he knew that any such act of violence would bring massive violence on his own people.

Today, I still hold my dissent on Stalin, but I am beginning to understand that there is a strong element of truth on the analysis of Indian State. The feudal characteristics determine even in the mobilization of mass political events in India and nobody in the US, UK, France or Germany can ever imagine a linear power hierarchy of Nehru to Indira to Rajiv to Sonia and Rahul. The relationships in India may not have much to do with the feudal norms of the European history, but it is a strange mixture of feudal, family name, caste power and other mixtures of traditions apart from class politics. It is not use value or economic value as per the capitalist norms which dominate all the time here, but there are other norms which dictate relationships. Whether I was right or wrong at that moment of argument with Niyogi is immaterial. What made me realize was that the power of understanding can cripple any of us as arrogant beings if we do not know the purpose of understanding, especially in political thinking. While Amit was getting furious about my arguments with Nyogi, Nyogi knew exactly what he wanted. He said: `Look here, comrade. It is true that we have some differences on our understanding. We can keep our differences. But are there any common areas where we can work together?’

His question brought me down shamefully to earth. I said: `You tell me. You are the leader. I am no leader.’

Immediately he put forward his agenda on me. He said: `I know that you are a good cartoonist and a politically committed person. So why don’t you do a cartoon for our struggle?’

`Ok, but when?’ I asked.

`Right now,’ said the leader. I said I don’t have the materials and I have to discuss more on the issues with him in order to think about a good idea. Nyogi did not leave me at that. He asked me what materials I needed to do a poster and sent Amit to bring them. We finished the poster at night and when I was returning I kept reflecting on Niyogi. Here is a leader who can make use of even opponents for his movement in no time. This meeting with Nyogi was certainly a great experience for me to understand my own strengths and weaknesses as a person, if not with political ideas. Therefore, despite my differences, I joined his fan-club.

What attracted me most about Niyogi was that his search was that of an `organic intellectual’ as per a term used by Gramsci. His life had a bit of a sufi existence on his past. Niyogi might have been around 15 years older than me. But by the time I met him he had explored a vast area of political life and it was this enormous experience which forced me to recognize that I was a child in front of him.

His experiences could be many. Childhood in Bengal and Assam. A local leader of the All India Students Federation, later with CPI (ML) and after that with diverse explorations. During the sixties, he worked as a skilled worker at the Bhilai Steel Plant and while working, he studied and obtained his BSC. Niyogi and his colleagues also organized one of the first strikes there for better working conditions. He was thrown out soon after. He moved around in different parts of Chattisgarch including Durg, Bastar, Bilaspur, Raigarh, Rajnandgaon, Sarguja, Raipur and other places. This period could be his sufi existence in his political life, where he was involved with many occupations and local struggles. During Emergency, he was arrested under the draconian law Maintainance of Internal Security Act (MISA). After he came out of Jail, he was approached by the contract workers of Dalli Rajhara, who were just planning a struggle for raising their yearly bonus. In no time, Niyogi became their accepted leader forming an organization, Chattisgarh Mines Shramik Sangh. When he began his trade union work in the region, the workers were getting three and a half rupees per day. By the time I met him, the workers were getting thirty four rupees per day. But he did not limit his work with usual trade union work for wages and bonuses. He set up a workers’ hospital in memory of the martyrs and this hospital was funded by the workers. It was here that Dr. Binayak Sen stepped in.

I met Dr. Binayak Sen for the first time in during the mid eighties in Dalli Rajhara, along with my dear friend and colleague and film maker P. Baburaj. Binayak was a calm doctor who treated the workers with a deep empathy in political issues. I used to think that this was a rare person, somebody who is a qualified pediatrician working for five hundred rupees a month for this workers’ hospital. Even the adivasi workers might have been earning more money at that time than Dr. Binayak Sen. To my surprise, he told us about the poster I did during the first confrontation with Niyogi. Niyogi had printed ten thousand posters and used it all over. A copy was found at the hospital.

While we were chatting, the news came that Niyogi was arrested. For Niyogi, his life meant more than Dalli Rajhara. He was involved with other struggles also. Just within half an hour, we could see adivasi miners from distant hills joining for a protest. In no time, there was a huge protest against the arrest of Niyogi. What Niyogi meant to people was clear for us in these events.

After organizing the the trade union for the mine workers, Nyogi continued with Chattisgarh Mukti Morcha (CMM), which was formed to take up broader issues of the region and Chattisgarh Gramin Shramik Sangh (CGSS). During Niyogi’s time, all organizations worked together.

I had experienced Niyogi’s capcity to tolerate dissent. But I knew even when I was arguing with him that he could articulate his politics strongly wherever needed. He was a charismatic leader. His charisma was due to his diverse experiences and his thinking. He did forest work in Bastar, caught and sold fish in Durg, worked as agricultural labourer in Keri Jungata, shepherding work on goats in Rajnandgaon and many other diverse experiences. All along he maintained his search for politics and involvement in action. I can only think of a similar character whom I have not met. Che Guevara also had similar diverse involvements. Che was a doctor, banker, economist, poet, writer, minister, guerilla, bookseller and a romantic lover. But he was from a different class altogether.

Niyogi was not an ordinary trade unionist. I was always skeptical of the term `declassification’ in Marxian terms. It is not easy for anybody to delete the experiences, memories and relationships of a class in which you are brought up with, though there are rare cases. But most of the trade union leaders in this country came from the middle class and I rarely see any possibility of their declassification. Their class power, perhaps was useful to negotiate between the working class and the capitalist effectively more than the workers themselves. But perhaps, it is this class power which refrain them from any revolution. Why Niyogi was different was not just because he lived with the adivasi workers and married an adivasi woman. He also came from different experiences of being a worker. But intellectually, he could relate with the middle class intellectuals and possessed better skills in negotiation than his upper middle class counter parts. While preserving his revolutionary charm till his death there was a deep exploration for a new politics within his mind.

When I began my film work with a frame work of making films on people’s movements and for people’s movement during the early eighties, I approached Niyogi for a film on Veer Narayan Singh, a local adivasi leader who fought the British. Niyogi had popularized his image and later Veer Narayan Singh became a mainstream symbol in Chattisgarh. I told him that if every worker contributes one rupee each, I can make a black and white film on Veer Narayan Singh. Niyogi was interested. But when it came to the discussion within the union, unfortunately there were more pressing needs within the workers themselves, even if such a collection had occurred. But what made me realize that at a time when other people’s movements did not realize the possibility of a film in politics, Niyogi had a vision for that. He used Charlie Chaplin’s Modern Times in the struggle of the workers against mechanization of the mines. Interestingly, he proposed a model of semi-mechanisation which neither displaced nor affected productivity. Paul Kurien had contributed a great deal on these discussions. Paul along with Amrita Chachi had done some wonderful research work on this issue at that time.

Shankar Guha Niyogi was shot dead in his sleep on September 28, 1991 in a house in Durg-Bhilai area. Niyogi knew very well that he would be killed and he could have saved his life. But his own political search did not allow him. I did not cry when I heard that Niyogi was killed, though I was deeply disturbed. But soon I heard about an audio tape in which he recorded his own voice one week before his death. I do not remember the exact words, but the tape said: I know that I will be killed if I continue this path of politics. If I change my path now, they will spare me. But if I change of my path due to fear, I will lose respect on myself. Therefore, if I am killed I would like to share these words…….’ On what continued are these exact words :…”This world is beautiful and I certainly love this beautiful world, but my work and my duty are important to me. I’ve to fulfill the responsibility that I’ve taken up. These people will kill me, but I know that by killing me none can finish our movement.”

For my horror, I found myself crying loudly after I heard about the content of the tape. I had to ask myself that if I am posed with a question of life and death due to my own politics, where will my commitment be? It is here that people like Shankar Guha Niyogi make people like me shrink. The other occasion when I cried similarly was when Safdar Hashmi was killed. Safdar and his team was working with the Hindi translation of our documentary called In the Name of Medicine’ on the commercialization and exploitation of the pharmaceutical industry. The work went on till four o’clock in the morning at CENDIT studio and since Safdar had a good language and voice it became better than the original English version. He came out of the studio and told me:Your film is extremely relevant, but I have some differences with you on your notion of industrialization and development. I suddenly jumped up to discuss it with him, but he said he had to prepare for a play in the afternoon and he requested for a meeting later for a proper discussion. Twelve hours later I heard he was killed. Like Niyogi, Safdar could also have saved himself. He gave up his life by protecting others. When I heard about this, I went to a tomb in Green Park in Delhi and cried with roaring tears. I did not want others to hear me. However, my discussion with Safdar was incomplete.

Crying is the art of touching the earth. I would prescribe this occasional great medicine to all human beings. Anger and arrogance are the urges to reach the sky. Unfortunately, since the human beings can not fly like birds, all anger and arrogance will have to collapse at one stage or the other. They also make us suffer more than tears. However, I am still trying to deal with my own anger and arrogance within myself. But I feel myself lucky to be able to produce tears for the memory of people like Niyogi.

Nyogi was aware of the environmental effects of mining. But there was a trap. Here was a community of thousands of workers predominantly migrated adivasis who work for peanuts for survival and their lives were too important for him. This was the same catch for Gro Vasu, a similar committed leader of the trade union in Birla’s Mavoor Rayon Factory. Nyogi and Gro Vasu had similar political orientations. Both came out of more or less CPI(ML) oriented politics. Stalin inspired both. Recently, when I went to interview Gro Vasu, he gave us a very inspiring interview. Later, when I was taking shots of the environment, I noticed the photographs on the wall and I asked my camera person Neethu to take a pan shot of the wall. When she was preparing the shot, I told her to take all the photographs of Marx, Engels and Lenin and drop Stalin. Gro Vasu heard that and appeared to be a bit upset. Luckily, I avoided any debate on Stalin with Gro Vasu. For here is a person who spent seven and a half years in jail on a fabricated case and faced police brutalities for his political convictions and went on to be socially relevant even at his old age. And he is still surviving by making umbrellas all by himself and selling them. When people’s movements invite him to speak, he does not even take his travel reimbursement, since he genuinely believes in such movements. These are still some relics for me, remnants of the past history of passionate social commitment. So how does it matter if he is a Stalinist? He is far better than a Trotskyite who does not do anything.

The images of Stalin, Trotsky, Mao, Marx,Engels, Lenin, Gandhi, Ambedkar, Budha, Jesus Christ, Mohammed Nabi and many others are still a matter of wonder for me. While my curiosity is still retained on their insights, these images are no longer a matter of deep conflict within me now. I may have very strong opinions on any of them, but in the final outcome, how does it matter? These people are dead and gone. It is our job to make best use of our lives along with the rest of humanity with or without them. Ultimately, your political relevance is determined by what you do in history. Your ideas can be a boost of your own ego by sharing them with some. But even ideas have a social, personal , practical and political process to make it move. And unless they move people, your ideas are only a waste of energy in thinking and reading. Ideas and action can only be supplementary and interdependent categories. Anybody who takes the pursuit of one of these by ignoring the other will have the same conflict between body and mind in their lives. To avoid such a conflict, the precondition is the deep necessity to understand many great souls like Shankar Guha Nyogi. Whether we like it or not, most of the adivasi miners in Chattisgarh still may not have read any of the above prophets. But Nyogi is still a moving inspiration for the lives of many. Because he led a life to move others. And they still remain moved with his memories.

K.P Sasi is a film maker, writer, activist and cartoonist. He can be reached at kpsasi36@gmail.com

Hindi Translation of the article by Natashaa Khan

 

शंकर गुहा नियोगी – तीसरी दुनिया का प्रतीक

शंकर गुहा नियोगी एक प्रभावशाली नेता थे और उनका जीवन राजनीतिक उद्देश्यों से परिपूर्ण था। मुझे ऐसा लगता है कि मैं उनके बारे में लिखने के लिए सही व्यक्ति नहीं हूं लेकिन जब कुछ यादें मुझे परेशान करती हैं तब मुझे लगता है कि उनके बारे में लिखकर मैं बेहतर महसूस करूँगा।
1979 -80 का वक्त था जब मेरा मन मार्क्सवादी विचारधारा से भर गया था और मैं मुख्यधारा के समाचार पत्र पत्रिकाओं के लिए कार्टून बना रहा था जबकि अब भी मैं जेएनयू में जर्मन स्टडीज स्कूल मे एक छात्र था। मैं अपने अंतर्द्वंदो और अपेक्षाओं से निपटने के लिए छटपटा रहा था ।यह मेरे राजनैतिक चिंतन का ही परिणाम था। विभिन्न अवसरो पर राजनीतिक सक्रियता मेरे लिए ऊर्जा और राहत का स्रोत थी।यह वह समय था जब जोगिन जिसके साथ मैं आम राजनैतिक विषयों पर चर्चा करता था मुझे शंकर गुहा नियोगी से मिलाने ले गया। जिसके लिए मैं जीवन भर जोगिन का आभारी रहूँगा क्योंकि उसने मुझे एक ऐसे महान व्यक्तित्व के मिलवाया जिसने मुझे मेरी शक्तियों और कमजोरियों का अहसास कराया। हममें से अधिकांश लोग शायद ही युवावस्था में अपनी ताकत और कमजोरियों को स्पष्ट रूप से समझने में सक्षम होते है।
उस समय दिल्ली में नियोगी ज्यादा मशहूर नही थे लेकिन मैं उन्हें एक महान राजनीतिक नेता के रूप में जानता था जिन्होंने छत्तीसगढ़ में दल्ली राजहरा के खान मजदूरों को संगठित किया था।ये वो युवा थे जो क्रांति  की खोज कर रहे थे और यह महसूस करते थे कि परंपरागत लेफ्ट ऐसी उम्मीद का स्रोत नहीं होगा और उन्हें बाहरी प्रतीकों को देखने की हमेशा आवश्यकता थी। नियोगी को श्रमिक वर्ग के द्वारा क्रांति की आशा के रूप में देखा जाता था। मेरा करीबी दोस्त पॉल कुरियन जो पहले से ही नियोगी के साथ संपर्क में था वह मुझे छत्तीसगढ़ में नियोगी के काम के बारे में बताया करता था। पॉल नियोगी के साथ जुड़कर छत्तीसगढ़ में खनिकों से संबंधित कुछ मुद्दों पर शोध करने की भी योजना बना रहा था। यहाँ मैं थोड़ा रुककर यह बताना चाहता हूँ कि पॉल कुरियन जो कि एक असाधारण व्यक्तित्व का स्वामी  था और नियोगी जो एक असाधारण नेता थे दोनों ही अब हमारे साथ नहीं हैं लेकिन मुझे यकीन है जो लोग इन को जानते थे वे मेरे शब्दों का सही अर्थ समझ पाएंगे क्योंकि कुछ बातें और यादें शब्दों की सीमा से परे होती हैं।
     जोगिन के साथ मै ग्रीन पार्क एक्सटेंशन के एक छोटे से कमरे में गया जहां नियोगी और उनके दोस्त अमित सेनगुप्ता (एचएमएस के ट्रेड यूनियन के सदस्य ) बैठे थे। मैं नियोगी की सादगी देखकर आश्चयचकित हुआ और हम बात करने के लिए बैठ गए । उन दिनों  जेएनयू के अधिकांश छात्रों के लिए विचार-विमर्श का अर्थ विचारों से असहमत होना होता था और मैंने भी नियोगी के साथ बिल्कुल वैसा ही किया जब मैंने उनका झुकाव स्टालिन के प्रति देखा। थोड़े ही समय में, स्टालिन पर बहस बहुत गरम हो गई। दुर्भाग्य से ऐसा जेएनयू में हमारे बीच होने वाली चर्चाओं की वजह से था।  मै स्तब्ध था कि नियोगी  जैसा व्यक्ति जोसेफ स्टालिन का बचाव कैसे कर सकता है जो रूसी क्रांति के जनक,उनके परिजनों तथा अन्य हत्याओ लिए जिम्मेदार था। नियोगी के साथ मेरा दूसरा मतभेद अर्ध सामंती और अर्ध औपनिवेशिक रूप में भारतीय राज्य की विशेषता पर आधारित था जो लगभग, सीपीआई (एमएल) के विश्लेषण के समान था। यद्यपि नियोगी ने अपने राजनीतिक जीवन का लम्बा समय मुझे से मिलने से पहले भूमिगत हो कर बिताया था वह पहले से ही इस प्रकार की राजनीति से अलग थे और उन्हें ‘क्लास एनेमी के विनाश’ की अवधारणा पर कोई विश्वास नहीं था जिस में हिंसा की वकालत की गयी थी अगर वह ऐसी अवधारणा पर विश्वास करते तो वह पहले ही आसानी से अपने हत्यारों को मार देते लेकिन वो अच्छी तरह से जानते थे कि हिंसा का ऐसा कोई भी कार्य उनके अपने ही लोगों पर बड़े पैमाने पर हिंसा का कारण बन सकता है।
     आज भी मैं स्टालिन पर उनसे असहमति रखता हूं लेकिन मैं समझ सकता हूं कि भारतीय राज्य के विश्लेषण में सत्य का एक शक्तिशाली तत्व है यहां तक कि भारतीय राजनीति में सामन्तवादी ताकतों के द्वारा बड़ी राजनीतिक गतिविधियों का भी निर्धारण होता हैं ।अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस या जर्मनी का कोई  व्यक्ति नेहरु के एक रैखिक पदानुक्रम नेहरू से इंदिरा, इंदिरा से राजीव फिर राजीव से सोनिया व राहुल की कभी कल्पना भी नहीं कर सकता। भारतीय राजनीति की तुलना यूरोपीय इतिहास के सामंती मानदंडों के साथ नहीं हो सकती । भारतीय राजनीति क्लास पॉलिटिक्स के अलावा सामंतवाद, पारिवारवाद, जातिवाद और परंपराओं का एक अनोखा मिश्रण है। भारतीय राज्य पूंजीवादी मानदंडों के अनुसार मूल्य या आर्थिक मूल्य का उपयोग नहीं करता है जो यहां हर समय हावी है लेकिन अन्य मानदण्ड है जो संबंधों को तय करते हैं। नियोगी के साथ बहस में मैं सही था या गलत यह भी बेकार की बात है। मुझे इस बात का एहसास हुआ कि समझने की शक्ति हमसे किसी को भी अपमानजनक रूप में अपंग कर सकती है अगर हम वह समझ न रखते हो, खासकर राजनीतिक सोच के संदर्भ में। इस बीच अमित, नियोगी के साथ मेरी बहस पर उग्र हो रहा था वहीं नियोगी को पता था कि वह क्या चाहते थे उन्होंने कहा: देखो कॉमरेड यह सच है कि हमारी सोच में अंतर हैं और हमारे बीच कुछ मतभेद हो सकते हैं लेकिन क्या कोई ऐसा भी क्षेत्र हैं जहां हम एक साथ मिलकर काम कर सकते हैं?
उनका यह सवाल मुझे वास्तविकता के धरातल पर ले आया। मैंने कहा: ‘आप मुझे बताइये आप नेता हैं  मैं कोई नेता नहीं हूं। ‘ तुरंत उन्होंने अपना एजेंडा आगे बढ़ाया। उन्होंने कहा: ‘मैं जानता हूं कि तुम एक अच्छे कार्टूनिस्ट हो और राजनीतिक रूप से प्रतिबद्ध व्यक्ति हो तो तुम हमारे संघर्ष के लिए कार्टून क्यों नहीं बनाते ? ठीक है, लेकिन कब? ‘मैंने पूछा।
अभी,नेता ने कहा। मैंने कहा कि मेरे पास कोई सामग्री नहीं है और मुझे कार्टून बनाने के लिए सोचने के साथ-साथ मुद्दों पर और अधिक चर्चा करनी होगी। उन्होंने मुझसे पूछा कि पोस्टर बनाने के लिए तुम्हें कौन सी सामग्रियों की जरूरत है और उन्हें लाने के लिए अमित को भेज दिया। हमने रात भर में  पोस्टर समाप्त कर दिया और जब मैं लौट रहा था तब  नियोगी की स्पष्ट छाप मुझ पर थी वह एक ऐसे नेता थे जो किसी भी समय अपने आंदोलन के लिए अपने विरोधियों का भी इस्तेमाल कर सकते थे । नियोगी के साथ यह बैठक मेरे लिए स्वयं की शक्तियों और कमजोरियों को एक व्यक्ति के रूप में समझने के लिए एक अनोखा अवसर था। मेरे मतभेदों के बावजूद मैं उनके प्रशसंकों में शामिल हो गया।
नियोगी के बारे में जो बात  मुझे सब से ज्यादा आकर्षित करती थी वह थी उनकी ‘आर्गेनिक इन्टीलेक्चुल’ की खोज जिस अर्थ में ग्रासमी के द्वारा प्रयोग किया गया है। नियोगी शायद मुझ से उम्र में 15 साल बड़े थे लेकिन जब मैं उनसे मिला तब तक उन्होंने राजनीतिक जीवन का एक लंबा सफर तय कर लिया था और उनका अनुभव बहुत ज्यादा था जिससे मुझे यह अहसास हुआ कि मैं उनके सामने एक बच्चा था।
   उनका बचपन बंगाल और असम में बीता उसके बाद वो अखिल भारतीय छात्र संघ के स्थानीय नेता बने फिर सीपीआई (एमएल) से जुड़े और उसके बाद भी विभिन्न क्षेत्रों में काम किया। साठ के दशक के दौरान उन्होंने भिलाई इस्पात संयंत्र में एक कुशल श्रमिक के रूप में काम किया ।काम के साथ साथ उन्होंने अध्ययन भी किया और बीएससी की डिग्री प्राप्त की। नियोगी और उनके सहयोगियों ने भी बेहतर काम की दशाओ के लिए बंद का आयोजन किया।जिस के बाद उन्हें काम से बाहर निकाल दिया गया। वह दुर्ग, बस्तर, बिलासपुर, रायगढ़, राजनांदगांव, सरगुजा, रायपुर सहित छत्तीसगढ़ के विभिन्न स्थानों में रहे। आपातकाल के दौरान उन्हें मीसा एक्ट के तहत गिरफ्तार किया गया था । जेल से बाहर आने के बाद दल्ली राजहरा के ठेका मजदूरों ने उनसे संपर्क किया जो अपने वार्षिक बोनस को बढ़ाने के लिए संघर्ष कर रहे थे जल्दी ही नियोगी उन मजदूरों के नेता चुन लिए गए और उन्होंने छत्तीसगढ़ खान श्रमिक संघ नामक संगठन का निर्माण किया ।जब उन्होंने उस क्षेत्र में अपने ट्रेड यूनियन का काम शुरू किया तो मजदूरों को प्रति दिन साढ़े तीन रुपये पारिश्रमिक के रूप में मिलते थे और जब मैं उनसे मिला तब  मजदूरों को प्रति दिन तीस रूपये मिलते थे लेकिन उन्होंने खुद को मजदूरी और बोनस के सामान्य ट्रेड यूनियन के काम के साथ सीमित नहीं किया। उन्होंने शहीदों की याद में श्रमिकों के लिये अस्पताल की स्थापना की । इस अस्पताल को मजदूरों के सहयोग से बनाया  गया था। इस अस्पताल में डॉ विनायक सेन काम करते थे।
     डॉ विनायक सेन से मैं पहली बार दल्ली राजहारा में अस्सी के दशक में मिला तब मेरे साथ मेरा प्रिय मित्र और सहकर्मी और फिल्म निर्माता पी बाबूराज भी था। विनायक शांतस्वभाव के व्यक्ति थे और वह राजनीतिक मुद्दों पर श्रमिकों के साथ गहरी सहानुभूति रखते थे। मुझे लगा कि यह एक दुर्लभ व्यक्ति है जो मजदूरों के अस्पताल में प्रति माह पांच सौ रुपये में काम करता है जबकि वह एक योग्य बाल रोग विशेषज्ञ है। यहां तक कि आदिवासी श्रमिक भी उस समय डॉ विनायक सेन की तुलना में अधिक पैसे कमाते थे । मुझे उस समय आश्चर्य हुआ जब उन्होंने मुझे उस पोस्टर के बारे में बताया जो मैंने नियोगी के साथ बहस के दौरान बनाया था। नियोगी ने उस पोस्टर के दस हजार प्रतियाँ छपवाई थी और उसका इस्तेमाल पूरी तरह से किया था। एक प्रति मुझे अस्पताल में मिली। जब हम बातचीत कर रहे थे इसी बीच यह खबर आई कि नियोगी को गिरफ्तार कर लिया गया है। नियोगी के लिए  उनकी जिंदगी का मतलब दल्ली राजहारा से कहीं अधिक था। वह अन्य संघर्षों में भी सक्रिय थे। आधे घंटे के भीतर ही हम आदिवासियों को उनकी गिरफ्तारी का विरोध करते दूर पहाड़ियों से देख सकते थे बिना किसी देरी के नियोगी की गिरफ्तारी के खिलाफ यह एक बड़ा विरोध प्रदर्शन था। इस घटना से नियोगी का महत्व स्पष्ट हो गया था।
खान श्रमिकों के लिए ट्रेड यूनियन का निर्माण करने के बाद भी नियोगी  छत्तीसगढ़ मुक्ति मोर्चा (सीएमएम) के साथ काम करते रहे।यह संगठन इस क्षेत्र के व्यापक मुद्दों को उठाने और छत्तीसगढ़ ग्रामीण श्रमिक संघ के सहयोग के लिये बनाया गया था। नियोगी के समय में सभी संगठनों ने एक साथ मिलकर काम किया।
     मैंने अनुभव किया नियोगी में असहमतियो को सहन करने की अदभुत क्षमता थी और जहां कहीं भी ज़रूरत हो वह अपने राजनैतिक विचारों को स्पष्ट रूप से व्यक्त करने में सक्षम थे। यह बात मुझे तब भी पता थी जब मैं उनके साथ बहस कर रहा था ।वह एक करिश्माई नेता थे उनका ये करिश्मा उनके विविध अनुभवो और उनकी सोच का परिणाम था। उन्होंने बस्तर के जंगलों में काम किया, दुर्ग में मछली पकड़ने और बेचने, केरी जुंगता में कृषि मजदूर के रूप में काम किया, राजनांदगांव में बकरिया चराते थे इसके अतिरिक्त और भी कई काम किये। साथ ही साथ राजनीति में भी सक्रिय रहे। नियोगी के जैसा कोई दूसरा व्यक्तित्व जिसके बारे में सोच पाता हूं वह हैं चे ग्वेरा जिससे मैं कभी नहीं मिला। चे ग्वेरा में भी इसी तरह की विविधता थी। चे एक डॉक्टर, बैंकर, अर्थशास्त्री, कवि, लेखक, मंत्री,  पुस्तक विक्रेता और रोमांटिक प्रेमी थे लेकिन वह एक अलग वर्ग से आते थे। निओगी एक साधारण ट्रेड यूनियन नेता नहीं थे। मुझे हमेशा से मार्क्सवादी शब्दों में ‘डिक्लासिफिकेशन’ शब्द पर संदेह रहा है।किसी भी व्यक्ति के लिए उन अनुभवों, यादों और रिश्तों को भुला पाना आसान नहीं होता है  जिसमें वो पला बढ़ा होता है हालांकि दुर्लभ मामलों में ऐसा होता है। इस देश में अधिकांश ट्रेड यूनियन नेता मध्यवर्ग से आते हैं और मुझे उनसे ऐसी किसी भी घोषणा की संभावना नही नज़र आती है। उनकी यही वर्ग शक्ति शायद मजदूर वर्ग और पूँजीवादी वर्ग  के बीच समझौता करने के लिए उपयोगी है जो स्वयं श्रमिकों की तुलना में अधिक प्रभावी है शायद यही शक्ति है जो उन्हें क्रांति से बचाती है। नियोगी अलग क्यों थे? सिर्फ इसलिए नहीं कि वह आदिवासी श्रमिकों के साथ रहते थे या एक आदिवासी महिला से विवाह किया था। वह स्वयं  मजदूर वर्ग से आते थे। मजदूरों के अनुभवों को जानते थे लेकिन बौद्धिक रूप से वह मध्यम वर्ग के बुद्धिजीवियों के साथ संबंध बनाये रखने तथा उनके विरोधी उच्च मध्यम वर्ग की तुलना अधिक कुशल थे। उन्होंने अपनी अंतिम सांस तक क्रांति के इस आकर्षण को बनाए रखा और उनके दिमाग में एक नई राजनीति के लिए गहन अन्वेषण हमेशा चलता रहा।
जब मैंने एक फ्रेमवर्क के साथ जन आंदोलनों  के लिए फिल्म बनाने का काम शुरू किया तब मैंने एक स्थानीय आदिवासी नेता वीर नारायण सिंह जिन्होंने अंग्रेजों के विरुद्ध लड़ाई लड़ी थी उन पर एक फिल्म बनाने के लिए नियोगी से संपर्क किया । नियोगी ने वीर नारायण सिंह की छवि को लोकप्रिय बना दिया था और बाद में छत्तीसगढ़ में वीर नारायण सिंह मुख्यधारा के प्रतीक बन गए। मैंने उनसे कहा कि अगर हर कार्यकर्ता एक रुपये का योगदान देता है तो मैं वीर नारायण सिंह पर एक ब्लैक एंड व्हाइट फिल्म बना सकता हूं। नियोगी की इस फ़िल्म में दिलचस्पी थी लेकिन जब यूनियन के बीच यह विषय चर्चा में आया तब दुर्भाग्य से श्रमिक अन्य जरूरी मुद्दों से जूझ रहे थे । ये बात अलग है कि कुछ राशि जमा हो चुकी थी लेकिन मुझे इस बात का एहसास हुआ कि ऐसे समय में जब अन्य लोगों को राजनीतिक आंदोलनों में एक फिल्म की संभावना नहीं दिखाई दे रही थी नियोगी के पास वो दूरदृष्टि थी। उन्होंने खानों के मशीनीकरण के खिलाफ श्रमिकों के संघर्ष में चार्ली चैपलिन की ‘मॉडर्न टाइम्स’ फ़िल्म का इस्तेमाल किया। दिलचस्प बात यह है कि उन्होंने अर्ध-मशीनीकरण का एक मॉडल प्रस्तावित किया जो न तो  विस्थापन  को प्रेरित करता था न ही उत्पादकता को प्रभावित करता था। पॉल कुरियन ने इन चर्चाओं में काफी योगदान दिया । अमृत चाची के साथ मिलकर पॉल ने उस समय इस मुद्दे पर अद्भुत शोध किया।
28 सितंबर 1991 को दुर्ग-भिलाई में शंकर गुहा नियोगी की उनके घर मे नींद में गोली मार कर हत्या कर दी गई । नियोगी बहुत अच्छी तरह से जानते थे कि उन्हें कभी भी मार दिया जाएगा ।वह अपना जीवन बचा सकते थे लेकिन उनकी राजनीतिक प्रतिबद्धता ने उन्हें ये अनुमति नहीं देती थी । जब मैंने सुना कि नियोगी को मार डाला गया तब मैं नहीं रोया हालांकि मैं बहुत परेशान था ।जल्दी  ही मैंने एक ऑडियो टेप के बारे में सुना जिसमें उन्होंने मृत्यु से एक हफ्ते पहले अपनी आवाज़ टेप की थी । मुझे शब्द याद नहीं हैं लेकिन टेप का सार कुछ ऐसा था : मुझे पता है कि अगर मैं इस राजनीतिक मार्ग को जारी रखता हूँ तो मार दिया जाऊंगा और यदि मैं अपना रास्ता बदलता हूं तो वे मुझे छोड़ देंगे लेकिन अगर मैं डर के कारण अपना रास्ता बदलता हूं तो मैं खुद की नज़रों में अपना सम्मान खो दूंगा इसलिए अगर मैं मारा जाता हूं तो मैं इन शब्दों को साझा करना चाहूंगा ……उन्हीं के शब्दों में: …”यह दुनिया सुंदर है और मैं निश्चित रूप से इस खूबसूरत दुनिया से प्यार करता हूं, लेकिन मेरा काम और मेरा कर्तव्य मेरे लिए महत्वपूर्ण है। मुझे उन जिम्मेदारीयो को पूरा करना होगा जिसे मैंने अपने हाथों में लिया है। ये लोग मुझे मार डालेंगे लेकिन मुझे पता है कि मुझे मारकर भी वो हमारे आंदोलन को खत्म नही कर पाएंगे। “
इस टेप को सुनने के बाद मैने खुद को रोता हुआ पाया। मैंने खुद से पूछा अगर मुझे अपनी राजनीति विचारधारा के कारण जीवन और मृत्यु के प्रश्न पर सोचना होगा तो मेरी प्रतिबद्धता कहां होगी? एक अन्य अवसर जब मैंने खुद को इसी तरह रोता हुआ पाया जब सफदर हाशमी को मार दिया गया था। सफदर और उनकी टीम फार्मास्युटिकल उद्योग के व्यवसायीकरण और शोषण पर बनी हमारी एक डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म “इन द नेम ऑफ मेडिसिन” के हिंदी अनुवाद पर काम कर रही थी। यह काम सुबह के चार बजे तक  सेंडिट स्टूडियो में चल रहा था चूंकि सफदर की भाषा और आवाज़ अच्छी थी इसलिए ये फ़िल्म मूल अंग्रेजी संस्करण से बेहतर हो गई थी। वह स्टूडियो से बाहर आया और मुझे बताया आपकी फिल्म बेहद प्रासंगिक है लेकिन आपकी औद्योगिकीकरण और विकास की अवधारणा पर मेरे  कुछ मतभेद है। मैं अचानक उसके साथ चर्चा करने के लिए कूद पड़ा लेकिन उसने कहा कि उसे दोपहर में होने वाले नाटक की तैयारी करनी है और उसने चर्चा के लिए बाद में एक मीटिंग का अनुरोध किया। बारह घंटे बाद मैंने सुना कि वह मारा गया। नियोगी की तरह सफदर भी स्वयं को बचा सकता था लेकिन उन्होंने दूसरों की रक्षा करने के लिए अपना जीवन छोड़ दिया। जब मैंने यह सुना तब मैं दिल्ली के ग्रीन पार्क में एक कब्र के पास गया और ज़ोर ज़ोर से रोने लगा पर मैं नहीं चाहता था कि दूसरों को मेरी आवाज़ सुनाई दे। अफसोस सफदर के साथ मेरी चर्चा अधूरी रह गयी।
रोना पृथ्वी को छूने की कला है। मैं सभी इंसानो को कभी-कभी इस महान औषधि के उपयोग की सलाह दूँगा।क्रोध और अहंकार को आकाश की दिशा में जाने चाहिये लेकिन दुर्भाग्य से, मनुष्य पक्षियों की तरह उड़ नहीं सकते इसलिये  क्रोध और अहंकार को एक चरण के बाद  या कही और ख़त्म हो जाना चाहिये। क्रोध और अहंकार हमें आँसू से भी ज्यादा दुख देते हैं  हालांकि मैं अब भी अपने भीतर के क्रोध और अहंकार से निपटने की कोशिश कर रहा हूं लेकिन मैं खुद को भाग्यशाली मानता हूं कि नियोगी जैसे लोगों की यादों में मै आँसू बहा सकता हूँ।
नियोगी खनन के पर्यावरणीय प्रभाव के बारे में भलीभांति जानते थे लेकिन यह एक प्रकार का जाल था यहां हजारों श्रमिकों का एक समुदाय था जो मुख्य रूप से आदिवासी थे जो जीवित रहने के लिए मूंगफली का काम करते थे और ये काम उनके जीवन के लिए बहुत महत्वपूर्ण था। ग्रो वासु जो बिड़ला के मावर रेयॉन फैक्टरी में ट्रेड यूनियन के प्रतिबद्ध नेता है जिनकी इस मुद्दे पर गहरी पकड़ है। नियोगी और ग्रो वासु में एक ही तरह का राजनीतिक झुकाव था। दोनों लगभग सीपीआई (एमएल) उन्मुख राजनीति से निकल कर आए थे और स्टालिन ने दोनों को ही प्रभावित किया था। हाल ही में जब मैं ग्रो वासु के साक्षात्कार के लिए गया उसने हमें बहुत ही अच्छा साक्षात्कार दिया। बाद में, जब मैं शॉट ले रहा था मैंने दीवार पर कुछ तस्वीरे देखी और मैंने अपने कैमरा पर्सन नीतू से दीवार का एक पैन शॉट को लेने के लिए कहा जब वह शॉट की तैयारी कर रही थी मैंने उसे मार्क्स, एंजल्स और लेनिन की सारी तस्वीरें लेने और स्टालिन की तसवीर को छोड़ने के लिए कहा। ग्रो वासु  ने ये सुना और थोड़ा सा परेशान हुआ। सौभाग्य से मैं ने स्टालिन पर ग्रो वासु के साथ कोई बहस नहीं छेड़ी। वासु एक ऐसा व्यक्ति है जिसने फर्जी मामले में अपनी राजनीतिक प्रतिबद्धता के लिए साढ़े सात साल जेल में बिताये और पुलिस की क्रूरता का सामना किया वह लगातार सामाजिक रूप से प्रासंगिक बना रहा। वह अब भी छतरियां बना कर बेचने का काम करते है। जब लोगों ने उन्हें आयोजन में बोलने के लिए आमंत्रित किया तो वह अपनी यात्रा का खर्च उठा पाने में भी सक्षम नहीं थे  जबकी इस तरह के आंदोलनों से  वो सही मायने में विश्वास रखते है।
      ये मेरी स्मृति का भाग हैं जो अब भी भावुक सामाजिक प्रतिबद्धता के इतिहास के अवशेष हैं तो यह बात मायने नही रखती कि वह एक स्टालिनिस्ट है?जो  ट्रोट्स्की की तुलना में कहीं ज्यादा बेहतर है जो कुछ भी नहीं करता है। स्टालिन, ट्रॉट्स्की, माओ, मार्क्स, एंगेल्स, लेनिन, गांधी, अम्बेडकर, बुद्ध, यीशु मसीह, मोहम्मद नबी और कई अन्य व्यक्तित्व अब भी मेरे लिए आश्चर्य का विषय है और मेरी जिज्ञासा अभी भी उनके विचारों बनी हुई है।ये व्यक्तित्व अब मेरे लिए गहरे विरोध का विषय नहीं हैं  इनमें किसी पर भी मेरी मजबूत धारणा हो सकती है लेकिन  येे अंतिम परिणाम नही हो सकता ।ये लोग मर चुके हैं और इस दुनिया से चले गए हैं। यह हमारा कर्तव्य है कि हमारे जीवन के बाकी हिस्सों में उनके विचारों का प्रयोग मानवता के लिये करें। अंत में, आपकी राजनीतिक प्रासंगिकता इस पर निर्भर करती है कि आपने इतिहास में क्या किया हैं?आपके विचार आपके अहंकार को और बढ़ा देते है जब आप उसे किसी के अन्य साथ साझा करते है लेकिन  विचारों की भी अपनी एक सामाजिक, व्यक्तिगत, व्यावहारिक और राजनीतिक प्रक्रिया होती है जिस से वो दूसरो को प्रभावित कर पाए और जब तक कि ये विचार अन्य लोगों तक नही पहुंच जाते आपके विचार केवल सोच और पढ़ने में की गई ऊर्जा की बर्बादी हैं। विचार और कर्म की  केवल पूरक और अन्योन्याश्रित श्रेणियां हो सकती हैं। जो भी व्यक्ति इनमें से किसी एक की अनदेखी करके किसी एक को पीछे छोड़ देता है, वह अपने जीवन में शरीर और मन के बीच ही एक संघर्ष में रहता है। ऐसे संघर्ष से बचने के लिए, शंकर गुहा नियोगी जैसे कई महान आत्माओं को गहराई से समझने की आवश्यकता है। चाहे हम उन्हें पसंद करें या नही।छत्तीसगढ़ में ज्यादातर आदिवासी अब भी उपरोक्त व्यक्तित्वों में से किसी को भी नहीं पढ़ सकते हैं लेकिन नियोगी आज भी कई लोगों के जीवन में प्रेरणा के रूप में मौजूद हैं  क्योंकि नियोगी ने अपना सारा जीवन उन्हें आगे बढ़ाने का प्रयास किया और वे आज भी नियोगी की यादों के साथ आगे बढ़ रहे हैं।
 के.पी. शशि
अनुवाद नताशा खान(लॉ स्टूडेंट,छत्तीसगढ़)

One Comment

  1. K SHESHU BABU says:

    Informative debate on the life and thoughts of Shankar Guha niyogi. He has contributed immensely to the welfare of the downtrodden

Leave a Reply